लोक सभा चुनाव परिणाम

News

जीत के बाद मोदी ने दिया देश को धन्यवाद

 

 

महागठबंधन नहीं रोक पाया मोदी की सुनामी को

सपा और बसपा के महागठबंधन के बाद ऐसा माना जा रहा थी की उत्तर प्रदेश में बीजेपी के लिए 30 सीट भी जीतना जीतना मुश्किल होगा। लेकिन परिणाम ने सब बदल दिया।
2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी को जीत दिलाने में  सबसे महत्वपूर्ण भूमिका उत्तर प्रदेश की रही थी।2019 में सपा और बसपा के गठबंधन के बाद विशेषज्ञों का मानना था की इसबार बीजेपी के लिए प्रदेश में 30 सीट भी जीतना कठिन हो जायेगा। विशेषज्ञों का मानना था की पिछड़ी जाती , दलित व मुस्लिम वोट्स महागठबंधन को मिलेगा जिससे उत्तर प्रदेश में बीजेपी के लिए मुश्किल होगी।

एग्जिट पोल को बीजेपी के आलावा सभी पार्टियों ने नकार दिया था।  लेकिन परिणाम लगभग वही है।
विशेषज्ञों का मानना है की उत्तर प्रदेश की जनता ने इसबार जाती और धर्म को पीछे रखकर वोट दिया है।

अमेठी जो कांग्रेस का गढ़ माना जाता है जहाँ से कोई दिग्गज नेता कांग्रेस के खिलाफ खड़ा नहीं होता वहाँ भी राहुल गाँधी हार गए।  शायद उन्हें इसबात का पहले से ही अंदेशा था और इसीलिए वे वयनाड से भी लड़े और बहुत भारी बहुमत से जीते भी।  स्मृति ईरानी जी की जीत का श्रेय उनकी मेहनत को जाता जो उन्होंने 2014 से 2019 तक अमेठी की जनता क साथ रहकर की।

पहली बार चुनाव लड़ रहे सनी देओल गुरदासपुर से जीते।

कन्हैया कुमार हारे

कन्हैया कुमार जिनकी रैलियों में बॉलीवुड के कलाकार से लेकर JNU के छात्र और कई दिग्गज नेता दिखे थे बीजेपी के आगे टिक नहीं पाए और गिरिराज सिंह से 4 लाख  ज्यादा वोटों से हार गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *